Gurudev Siyag Siddha Yoga (GSSY)

साधकों के अनुभव

वृत्तियों का रूपान्तरण

मैं बालुसिंह राजुरोहित, धीरदेसर पुरोहितान श्री डूंगरगढ़, चुरू, राज. से हूँं मेरे दीक्षा ग्रहण करने के 8 दिन पूर्व, रात में 4ः00 बजे मैं अपने

Read More »

फिस्टूला से मुक्ति

आध्यात्मिक जीवन के अंतरंग क्षण         2 फरवरी 1995 को पहली बार मैं ‘‘अध्यात्म विज्ञान सत्संग केन्द्र, जोधपुर आश्रम’’ गया और वहाँ

Read More »

हेरोइन से मुक्ति

सन् 1982 की बात है। मेरे दांत में दर्द रहता था। डाॅक्टर से जाँच कराने पर बोले कि दांत निकालना पड़ेगा। दांत निकलवाते समय टूट

Read More »

आत्म साक्षात्कार हुआ

आत्मा की अमरता और शरीर से अलग कर दिव्यता की अनुभूति कराई        सर्व समर्थ सद्गुरुदेव श्री रामलाल जी सियाग को शत्-शत् नमन्।

Read More »

साधक के अंतरंग क्षण

21 जुलाई 1995 की संध्या मेरे लिए बहुत विचित्र मंगलमयी सिद्ध हुई थी। इस दिन मुझे गुरुदेव जी से दीक्षा लेने का शुभ अवसर मिला

Read More »
WhatsApp chat